MOTHER'S DAY KAVITA IN HINDI

MOTHER'S DAY KAVITA IN HINDI

🌺🌺🌺 Happy Mother's Day special 🌺🌺🌺

◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆


माँ मैं कभी बतलाता नहीं, पर अंधेरे से डरता हूँ मैं माँ

यूँ तो मैं दिखलाता नहीं, तेरी परवाह करता हूँ मैं माँ

तुझे सब है पता, है ना माँ, तुझे सब है पता, मेरी माँ



भीड़ में यूँ ना छोड़ो मुझे

घर लौट के भी आ ना पाऊँ माँ

भेज ना इतना दूर मुझको तू

याद भी तुझको आ ना पाऊँ माँ

क्या इतना बुरा हूँ मैं माँ, मेरी माँ



जब भी कभी पापा मुझे ज़ोर ज़ोर से झूला झुलाते है माँ

मेरी नज़र ढूँढे तुझे, सोचू यही तू आ के थामेगी माँ

उन से मैं यह कहता नहीं, पर मैं सहम जाता हूँ माँ

चेहरे में आने देता नहीं, दिल ही दिल में घबराता हूँ माँ

तुझे सब है पता है ना माँ, 💙💙💙
=================================


तू कितनी अच्छी है



तू कितनी भोली है

प्यारी-प्यारी है

ओ माँ, ओ माँ

ये जो दुनिया है

ये बन है काँटों का

तू फुलवारी है

ओ माँ, ओ माँ

तू कितनी अच्छी है...



दूखन लागी है माँ तेरी अँखियाँ

मेरे लिए जागी है तू सारी-सारी रतियाँ

मेरी निंदिया पे, अपनी निंदिया भी, तूने वारी है

ओ माँ, ओ माँ

तू कितनी अच्छी है...



अपना नहीं तुझे सुख-दुख कोई

मैं मुस्काया, तू मुस्काई, मैं रोया, तू रोई

मेरे हँसने पे, मेरे रोने पे, तू बलिहारी है

ओ माँ, ओ माँ

तू कितनी अच्छी है...



माँ बच्चों की जां होती है

वो होते हैं क़िस्मत वाले जिनके माँ होती है

कितनी सुन्दर है, कितनी शीतल है, न्यारी-न्यारी है

ओ माँ, ओ माँ

तू कितनी अच्छी है...



Movie: राजा और रंक (1968)

Music By: लक्ष्मीकांत प्यारेलाल

Lyrics By: आनंद बक्षी

Performed By: लता मंगेशकर
=================================


🌺🌺🌺 Happy Mother's Day To All 🌺🌺🌺

◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆


बाजुओं में खींच के आ जायेगी जैसे क़ायनात

अपने बच्चे के लिए ऐसे बाहें फैलाती है माँ…



ज़िन्दगी के सफ़र मै गर्दिशों में धुप में

जब कोई साया नहीं मिलता तब बहुत याद आती है माँ..



प्यार कहते हैं किसे, और ममता क्या चीज़ है,

कोई उन बच्चों से पूछे जिनकी मर जाती है माँ…



सफा-ए- हस्ती पे लिखती है, असूल-ए- ज़िन्दगी,

इसलिए तो मक़सद-ए- इस्लाम कहलाती है माँ..



जब ज़िगर परदेस जाता है ए नूर-ए- नज़र,

कुरान लेकर सर पे आ जाती है माँ..



लेके ज़मानत में रज़ा-ए- पाक की,



पीछे पीछे सर झुकाए दूर तक जाती है माँ…



काँपती आवाज़ में कहती है बेटा अलविदा…

सामने जब तक रहे हाथों को लहराती है माँ..



जब परेशानी में फँस जाते हैं हम परदेस में,

आंसुओं को पोंछने ख्वाबों में आ जाती है माँ..



मरते दम तक आ सका न बच्चा घर परदेस से,

अपनी सारी दुआएं चौखट पे छोड़ जाती है माँ..



बाद मरने के बेटे की खिदमत के लिए,

रूप बेटी का बदल के घर में आ जाती है माँ…

=================================


!...................माँ...................!

◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆

एक ऐसा व्यक्तित्व..जिसे देखा..सुना या समझा नही जा सकता..

सिर्फ महसूस किया जा सकता है...



माँ-

एक ऐसा शब्द..जो जन्म लेने के पश्चात..बच्चे की ज़ुबान पर.

.सबसे पहले आता है...



माँ-

एक ऐसा प्रतीक...जिसकी परिभाषा इन्सान ही नही..

बल्कि पशु-पक्षी भी समझते हैं...



माँ-

श्रद्धा की एक ऐसी मूरत..जिसकी पूजा...

भगवान से भी पहले की जाती है...



माँ-

एक ऐसा अनमोल रत्न..जिसके खो जाने पर..इन्सान ही नही..

परमात्मा भी दुखी होता है...



माँ की अहमियत..माँ की ममता..माँ की कीमत..

जरा उनसे पूछकर देखिये..जिनकी माँ नही होती.....॥


Miss_You_Mom 😢

I Miss You...Every Day...Every Hour...Every minute...Every Second Of My Life...

And I Will Miss You...With My Every Breath Of Life...


🙏🙏आप सभी को 🌺🌺🌺 मातृ दिवस 🌺🌺🌺 की हार्दिक शुभकामनाएं🙏🙏
=================================


"........."माँ"........"

◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆


माँ- दुःख में सुख का एहसास है,

माँ - हरपल मेरे आस पास है ।

माँ- घर की आत्मा है,

माँ- साक्षात् परमात्मा है ।

माँ- आरती, अज़ान है,

माँ- गीता और कुरआन है ।

माँ- ठण्ड में गुनगुनी धूप है,

माँ- उस रब का ही एक रूप है ।

माँ- तपती धूप में साया है,

माँ- आदि शक्ति महामाया है ।

माँ- जीवन में प्रकाश है,

माँ- निराशा में आस है ।

माँ- महीनों में सावन है,

माँ- गंगा सी पावन है ।

माँ- वृक्षों में पीपल है,

माँ- फलों में श्रीफल है ।

माँ- देवियों में गायत्री है,

माँ- मनुज देह में सावित्री है ।

माँ- ईश् वंदना का गायन है,

माँ- चलती फिरती रामायन है ।

माँ- रत्नों की माला है,

माँ- अँधेरे में उजाला है,

माँ- बंदन और रोली है,

माँ- रक्षासूत्र की मौली है ।

माँ- ममता का प्याला है,

माँ- शीत में दुशाला है ।

माँ- गुड सी मीठी बोली है,

माँ- ईद, दिवाली, होली है ।

माँ- इस जहाँ में हमें लाई है,

माँ- की याद हमें अति की आई है ।

माँ- मैरी, फातिमा और दुर्गा माई है,

माँ- ब्रह्माण्ड के कण कण में समाई है ।

माँ- ब्रह्माण्ड के कण कण में समाई है ।



"अंत में मैं बस ये इक पुण्य का काम करती हूँ,

दुनिया की सभी माँओं को दंडवत प्रणाम करती हूँ ।



Happy Mother's Day 🙏
=================================


🍁HAPPY MOTHER 'S DAY🍁
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆


मैं शब्द
तुम भाषा


मैं कुण्ठित,
तू अभिलाषा


मैं पत्थर,
तू कंचन कृनिका


मैं तेज प्रखर,
तू निर्मल स्वर


तू ही सरस्वति
मेरी भाग्य विधाता


मैं शब्द
तुम भाषा


माँ तेरी
यही परिभाषा ।


हम भारत मां के लाल है हैप्पी मदर्स डे सभी को....
=================================


🍁HAPPY MOTHER 'S DAY🍁
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆



मेरी माँ आदर्श हैं,

वे मुझे सच के रस्ते पर चलने की सीख देती हैं,

समय का महत्व बताती हैं संस्कार सिखाती हैं.



कहते हैं कि,

माँ ईश्वर के द्वारा हमें दिया गया एक वरदान है,

जिसकी आंचल की छांव में हम अपने आप को सुरक्षित महसूस करते है,

और अपने सारे गम भूल जाते हैं.



मैं अपनी माँ से बहुत प्यार करती हूँ,

और भगवन को धन्यवाद देती हूँ कि उन्होंने मुझे दुनिया की सबसे अच्छी माँ दी|

=================================


Day to all my Lovey Friend's Love u all God Bless u
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆




मैं रात भर जन्नत की सैर करता रहा यारों

सुबह आँख खुली तो देखा” मेरा सर माँ के कदमों में था

जन्नत का हर लम्हा ‎दीदार किया था

माँ तूने गोद मे उठा कर जब प्यार किया था



किसी का दिल तोडना आज तक नही आया मुझे

प्यार करना जो अपनी माँ से सीखा है मैंने



मुझे किसी और जन्नत का नहीं पता

=================================

Clcik Here For More...
Previous Post Next Post